Shayari 2018

Shayari 2018, New Shayari 2018, Latest Shayari 2018, Hindi Shayari 2018, New Hindi Shayari 2018, Latest Hindi Shayari 2018, 2018 Ki Shayari, 2018 shayari

laga kar aag seene mein chale ho kaha tum
abhi to raakh udne do tamasha aur bhi hoga
लगा कर आग सीने में चले हो कहा तुम
अभी तो राख उडने दो तमाशा और भी होगा

Shayari 2018
Shayari 2018

aaj puche na koi sabr ke maani hum se
aaj hum aakhiri manzil pe khade hai saheb
आज पूछे न कोई सब्र के मानी हम से
आज हम आखरी मंजिल पे खड़े है साहेब

Hindi Shayari 2018
Hindi Shayari 2018

ek ye khwaish k koi zakam na dekhe dil ka
ek ye hasrat hai k koi dekhne wala hota
एक खुवासिश के कोई ज़काम ना देखे दिल का
एक ये हसरत है के कोई देखने वाला होता

khud ko masruf samjhte ho zra ek baat bhi sun lo
jis din hum huwe masruf tumhe sikwa bahut hoga
खुद को मसरूफ समझते हो जरा एक बात भी सुन लो
जिस दिन हम हुए मसरूफ तुम्हें सिकवा बहुत होगा
New Shayari 2018
New Shayari 2018

har aadmi apna darakht alag alag ugaana chahta hai
yahi wajha hai ke insaniyat ka baag taiyaar nahi hota
हर आदमी अपना अपना दरख़्त अलग अलग उगाना चाहता है
यही वजह है के इंसानियत का बाग़ तैयार नहीं होता

gajab chaya sitam toota qayamat ho gayi yahan
faqat itna hi pucha tha ke tum ko piyaar hai kiya hum se
गजब छाया सितम टूटा क़यामत हो गयी यहाँ
फ़क़त इनता ही पूछा था की तुम को प्यार है किया हम से

milna hai to aa jeet le maidaan mein mujh ko
hum pane kabile se bagahwat nahi karte
मिलना है तो आ जीत ले मैदान में मुझ को
हम अपने काबिले से बगावत नहीं करते
New Hindi Shayari 2018
New Hindi Shayari 2018

hairat se tak raha hai jahan wafa mujhe
tumne bana diya hai mohabbat mein kiya kiya mujhe
हैरत से तक रहा है जहाँ वफ़ा मुझे
तुमने बना दिया है मोहब्बत में किया किया मुझे

hum se bhi poch lo akbhi haal chaal dil e janab
kabhi hum bhi kah sake ki duaa hai aap ki
हम से भी पूछ लो कभी हाल चाल दिल ए जनाब
कभी हम भी कह सके की दुआ है आप की

Latest Shayari 2018
Latest Shayari 2018
hum raat k pichle pair gaye masjid mein use mangne
magar wo to pahle hi sajhde mein tha kisi aur ke liye
हम रात के पिछले पैर गए मस्जिद में उसे मागने
मगर वो तो पहले ही सजदे में थे था किसी और के लिए